09/09/2009 यानि एक साल और कम

आज 09/09/09 है। यानि कि नौ सितम्बर दो हजार नौ। एक ऐसा दिन जो दोबारा मेरी जिन्दगी मे नही आएगा। वैसे आज का दिन कुछ खास भी है, क्योंकि आज के दिन ही मै पैदा हुआ था। अब कितने साल का हो गया, ये मत पूछना, मै शरमा जाऊंगा। वैसे दिल से तो मै अभी भी स्वीट सिक्स्टीन ही हूँ। ये आप लोगों का प्यार है तो जो मुझे सदा जवां रहने की प्रेरणा देता है।

एक शुकुल है जो हमारे बारे मे ढेर सारी अफवाहें उड़ाता रहता है, जिसमे से एक अफवाह ये है कि हम बड़े कलाकारी व्यक्ति है। ये तो शुकुल की आंखों का भ्रम है, शायद (उसके) बुढापे के कारण आंखो मे मोतियाबिंद उतर आया होगा, इसलिए ऐसी गलत सलत खयालात दिमाग मे आ गए होंगे। वैसे मै कोई कलाकार वगैरहा नही हूँ, इसलिए आप शुकुल के बहकावे मे ना आएं। अगर आ गए, तो रिस्क आपका। अब मै कोई महान आत्मा तो हूँ नही जो मेरी जीवनी लिखी जाए, इसलिए ये काम भी हम गाहे बगाहे स्वयं करते रहते है। अलबत्ता शुकुल ने दो एक बार जीवनी लिखने के नाम पर मेरी ढेर सारी खिंचाई की थी, आप उसके ब्लॉग पर जरुर पढना और खुद डिसाइड करना उसने दोस्ती निभायी है या ….। इंशा अल्लाह ऐसे दोस्त हो तो बाकी…. किसी चीज की जरुरत ही क्या।

मेरी जन्मदिन की यादों मे मुझे याद आता है कि आज का दिन विशेष हुआ करता था, आज के दिन घर मे मेरी पसंद का खाना बनता था, काफी कुछ पकवान वगैरहा बनते थे। जिसको हम सबसे पहले अनाथालय और मंदिर के बाहर बैठे भिखारियों को खिलाते थे। उस जमाने मे बर्थडे केक नाम की चीज नही हुआ करती थी, होती भी होगी, हमारे घर मे ये परम्परा नही थी। अलबत्ता मेरे इसरार करने पर मम्मी आटे का हलवा बनाती थी, जिसको हम चम्मच से काटकर खुश हो लिया करते थे। जन्मदिन पर हमारे लिए छूट थी कि हम चाहें तो स्कूल जाए अथवा ना जाएं, जाहिर है, हम स्कूल नही जाना ही पसन्द करते थे। आज के दिन खेलने के नाम पर भी हमे जल्दी आवाज नही दी जाती थी। अब अगर हम स्कूल नही जाते तो जाहिर है टिल्लू और धीरू भी स्कूल नही जाते, तीनो मोहल्ले मे धमाचौकड़ी मनाते। काश! फिर लौट आएं तो पुराने दिन। इसके अलावा आज के दिन मोहल्ले वालों की शिकायत पर भी कोई कान नही देता था। अब जन्मदिन वाले दिन बच्चें को पीटना कोई अच्छी बात थोड़े ही है।

ऐसे कई जन्मदिन आते गए, हलवे बनते रहे। माताजी के गुजरने के साथ साथ हलवा बनने की प्रक्रिया तो समाप्त हो गयी, लेकिन गाहे बगाहे परिवार वाले केक कटवाते रहे, इस बार मैने केक भी ना काटने का निर्णय लिया है। जन्मदिन पर मै अनाथालय और वृद्द आश्रम जरुर जाता हूँ और यथाशक्ति अपना सहयोग कर आता हूँ। ये आदत आजतक कायम है और ईश्वर करे हमेशा जारी रहे। हमारे स्वर्गीय चाचाजी ने ये आदत डलवायी थी, उनका मानना था जन्मदिन की पार्टी करना घोर अपराध है, उतने पैसे मे ना जाने कितने गरीबों का भला किया जा सकता है। इसलिए हम लोग भी (भले डर के मारे) चाचाजी की हाँ मे हाँ मिलाते हुए, जन्मदिन की पार्टी मनाने की जिद नही करते थे। वैसे भी आजकल जब भी कोई हमसे जन्मदिन की पार्टी मांगने की जिद करता है तो हम चाचाजी वाला रिकार्ड सुना देते है, लेकिन दोस्त यार और घरवाले मानते थोड़े ही है। कंही ना कंही कुछ खिचड़ी पक रही होगी, शाम को ही पता चलेगा।चलिए जी, अब लेख को यही समेटते है, यादें तो कभी खत्म नही होंगी, फिर बैठेंगे कभी यादों का पुलिन्दा लेकर। आते रहिए पढते रहिए, आपका पसन्दीदा ब्लॉग।

जाते जाते : जन्मदिन की गिफ़्ट
इस बार बच्चों ने जिद करके इस जन्मदिन पर हमारा मोबाइल नोकिया N70 विदा करवाया। अब हम ठहरे नोकिया प्रेमी इसलिए नोकिया का E71 (देखें नीचे वाला चित्र) खरीदवाया गया। इस तरह से एक जिन्दगी एक मोबाइल वाला सिद्दांत खत्म, आज से नोकिया E71 का प्रयोग शुरु। इस प्यारी गिफ़्ट के लिए बच्चों को ढेर सारा प्यार।

From MeraPannaPhoto

फोटो सौजन्य से :Urbanmixer at Flickr

आप इन्हे भी पसंद करेंगे

26 Responses to “09/09/2009 यानि एक साल और कम”

  1. जन्मदिन की बधाई और शुभकामनायें।
    .-= Nitin´s last blog ..विश्व विकास यात्रा =-.

  2. Happy B’Day To You
    .-= anil kant´s last blog ..रात जब ठहर जाए =-.

  3. शायद (उसके) बुढापे के कारण आंखो मे मोतियाबिंद उतर आया होगा-सही पहचाना.हम खुश हुए. 🙂

    अनुभव का एक साल और प्राप्त करने के लिए बधाई और शुभकामनायें.
    .-= समीर लाल´s last blog ..यूँ जवानी लौट के आई… =-.

  4. जन्‍मदिन की बधाई एवं शुभकामनाएं ।

  5. नए मोबाइल की बधाई. और हाँ जन्मदिन की भी 🙂

  6. चाहे कोई भी जमाना हो .. जन्‍म दिन में केक काटने से अधिक अच्‍छा अनाथाश्रम को सहयोग देना है .. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं।
    .-= संगीता पुरी´s last blog ..क्‍या आपपर भी ट्रिपल नाइन के संयोग का कुछ प्रभाव पडेगा ?? =-.

  7. आज ही आपके ब्लॉग पर आया और पाया कि आपका जन्मदिन है सो बधाई भाई. तमाम पुरानी पोस्टें देख डालीं खासकर – बहती नाक, सरकती नेकर – बहुत ही रोचक लगी. देर तक हँसता रहा. बहुत अच्छा लिखते हो भाई, एकदम सॉलि़ड. शुभकामनाएँ.

  8. HAPPY BIRTHDAY TO YOU सर !
    .-= Rashmi Swaroop´s last blog ..‘प्रतिभा’ =-.

  9. जन्मदिन बहुत मुबारक हो 🙂

    फुनवा तो बढ़िया है ही, हम कह ही रहे थे। 🙂
    .-= amit´s last blog ..हवाई घंटियाँ….. =-.

  10. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाइयां.

    सुबह आपके के ब्लोग की खबर रवीश जी के कालम ( दैनिक हिन्दुस्तान) में पढी.

    कानपुर का होने के नाते ,जिज्ञासा भी अधिक थी. आपके कानपुर वाले संस्मरणों से भी अवगत हुआ. ‘छतियाना’ तो कानपुर वाले ही जानते हैं.
    ज़रा नील वाली गली, नौगढा. हूलागंज, काहूकोठी वालों से पूछिये वह सब समझते हैं.

    बचपन याद आ गया.
    कानपुर वाले ब्लौगरों का एक सम्मेलन आयोजित करें यह अपने आप में एक विशेष आयोजन होगा.

    जन्मदिन की एक बार फिर बधाई.
    .-= Arvind Chaturvedi अरविन्द चतुर्वेदी´s last blog ..कौवों के कोसने के गायें नहीं मरा करती उर्फ भाजपा को गाली देना एक शगल क्यों बनता जा रहा है? =-.

  11. बहुत बधाई।
    क्या भाव है फोन?
    और आपकी सहमति हो तो हम हलवा खा लें आज?!
    .-= Gyan Pandey´s last blog ..गाय =-.

  12. जन्मदिन के साथ-साथ मोबाइल भी मुबारक हो जी,

    हमने आपकी अनूप जी के जन्मदिन वाली पोस्ट भी कभी पढ़ी थी, पढ़कर लगा था जैसे फुरसतिया ने स्वयं ही आपके नाम से लिख दी हो, आज भी याद है !
    .-= विवेक सिंह´s last blog ..वहीं हमारे काशी-काबा =-.

  13. जन्मदिन की बधाई और शुभकामनायें।

  14. तो मियां तुम बहकती नाक खिसकते निक्कर से जुमा-जुमा पांच साल तक आये हो और आंखों के डाक्टर बन गये। कलाकारी का मतलब तुम आर्टिस्ट से लगा लिये जबकि हमारा मतलब था छंटे हुये लोगों से। तुम्हारी हिन्दी की हिन्दी होती जा रही है जबसे तुम समीरलालजी के साथ दिखने लगे। समीरलाल तुमसे तो यहां कह रहे हैं कि उनको बड़ी खुशी हुई कि तुमको हमने बुजुर्ग कहा जबकि हमसे फ़ोन/फ़ैक्स/मेल सबसे तीन-चार बार शिकायत किये कि भाईजी बताओ जीतू भाई को इसतरह लिखना चाहिये। यह भी कह रहे थे कि सफ़ाई दे रहे थे कि मुझको बुजुर्ग उन्होंने इसलिये लिखा ताकि आशीर्वाद मिलता रहे। हमने कहा -मस्त रहिये। वो बोले हमसे नहीं ब्लाग पर कहिये। मतलब जो उनको टिपिया दे वही उनका बुजुर्ग।

    बकिया मजे में रहो। निक्कर-सिक्कर छोड़-छाड़ के अब बरमूड-सरमूड़ा पहनना सीखो। मोबाइल चलाना सीख लो। इससे फ़ोन किया जाता है। पेपरवेट की तरह मारपीट के काम नहीं आता ई त जानते ही होगे।

    बकिया जनमदिन फ़िर से मुबारक। मस्त रहो। ऐश करो। जो होगा देखा जायेगा।
    .-= अनूप शुक्ल´s last blog ..जीतू- जन्मदिन के बहाने इधर उधर की =-.

  15. बहुत बहुत मुबारकबाद
    पार्टी कि जगह अनाथालय और वृद्द आश्रम जाना बहुत अच्छा.
    सभी को सीख लेनी ………..
    .-= kasim´s last blog ..मैनड्रैक कि हिन्दी कॉमिक्स Hindi Comics of Mandrake =-.

  16. आपको जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनायें ।

  17. जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें
    कल ही आपके ब्लॉग तक पता नहीं कहाँ से पहुंचा हूँ
    अच्छा लिखते है, हिंदी लेखन नेट पर कम ही देखता हूँ,
    आशा करता हूँ फिर आना हो मेरा आपके ब्लॉग पर.

  18. जीतू भाई आप को जन्म दिन मुबारक हो

  19. जन्मदिन की ढेर सारी बधाईयां।

  20. प्रिय जीतू भाई
    नमस्कार
    कल ही आप के वारे में जन सका …….
    आप को जन्म दिन की बधाई पेश करता हूँ और ये भी बताना चाहता हूँ की थोडा ही सही में भी कानपूर में रहा हूँ …….
    क्रपा कर मुझे भी बताएं की ब्लॉग के जरिये पैसे कैसे कमाते हैं
    सुनील

  21. बेहतर ।आभार ।
    .-= hemant kumar´s last blog ..कुर्सी व कलम की रूह हिल गयी होगी…! =-.

  22. जन्मदिन की हार्दिक बधाई …..

  23. उपहार वाकई सुन्दर है …….. 🙂
    .-= Raj´s last blog ..भारत पुन: विश्व गुरु बन सकता है …..! =-.

  24. उपहार सुन्दर है 🙂 धन्यवाद.

    और ये हिंदी में change हो जाने वाली बात भी,
    वाकई ब्लॉग्गिंग का असली मज़ा लगता है अपने सर्वर से ही है,
    हाँ जन्म दिन की शुभ काम्नायिएँ ….

    ५ वर्ष (ब्लॉग्गिंग को) पूरण होने की….
    आपके ब्लॉग तक कैसे पहुंचा?
    देखे रहा था कुछ पुराने ब्लोग्गेर्स के चिट्ठे…
    आप भी एक निकले, इससे पहले आपको नहीं पढ़ा.
    अब आऊँगा… 🙂
    .-= Darpan Sah´s last blog ..नज़्म उलझी है का Nostalgia =-.

  25. follow कैसे करना है?

  26. जन्मदिन की बिलेटेड बधाइयां!
    .-= Antarman´s last blog ..Mika Tamil Bhangra Quick Gun Murgan =-.