सड़क पर हमारा व्यवहार

आज बहुत दिनो बात लिखने का मौका मिला है, चलो जी जित्ता हो सके निबटा लिया जाए। आजकल तो पढने लिखने का मौका ही मिलता, क्या करें, तीन तीन प्रोजेक्ट सर पर है, सबको निबटाना है। एक अकेली जान, हैरान परेशान क्या क्या करूं, इसलिए ब्लॉगिंग बैक बर्नर पर चली गयी है। खैर जनाब ये हमारी परेशानी है, हम ही सुलटेंगे, आप टेंशन मत लो। आइए बात करते है, सड़क पर हमारे व्यवहार की। इसके पहले हम आपको एक आपबीती सुनाते है।

ये आपबीती है कुवैत की एक सड़क की। किस्सा सुनकर आपको काफी अजीब लगेगा। वैसे तो पूरे गल्फ मे मशहूर है कि सऊदी और कुवैत के बाशिंदे काफी गर्म मिजाज और अकड़ू किस्म होते है। लेकिन कुवैत मे मैने एक बात देखी है, कानून को कोई भी अपने हाथ मे नही लेता। मेरे को याद है काफी साल पहले मेरी गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ था। दरअसल गलती मेरी ही थी, अगला बन्दा(कुवैती ही था) मेरी गाड़ी के आगे चल रहा था, स्पीड यही कोई 80/100 किमी की रही होगी, अचानक अगली गाड़ी वाले को ब्रेक मारना पड़ा, मैने भी काफी कोशिश की, लेकिन फिर भी मेरी गाड़ी उसकी गाड़ी को छू ही गयी। बन्दा अपनी गाड़ी से बाहर निकला, हम दोनो ने एक दूसरे का अभिवादन किया, हाथ मिलाए, उसने हमे सिगरेट ऑफर की, दोनो ने एक दूसरे की गाड़ी का मुआयना किया, और फिर पुलिस को फोन किया गया। सड़क के किनारे खड़े होकर, पुलिस का इंतजार करने के बीच काफी प्रेमपूर्वक बातचीत हुई। पुलिस भी आनन फानन मे पहुँच गयी, उसने हमारी गाड़ियों की लोकेशन को कागज पर उतारा, हम सभी ने एक दूसरे के नम्बर लिए और ऑफिस के बाद शाम को मिलने का वादा किया, इस तरह से बड़े ही सौहार्दपूर्ण तरीके से एक सड़क दुर्घटना को निबटाया गया। इसके उलट अगर यही बात दिल्ली/कानपुर मे घटित होती तो क्या होता? चलिए एक किस्सा भारत का भी हो जाए।

अभी पिछली भारत यात्रा के दौरान, देखा काफी कुछ बदल गया है। नही बदला है तो बस हम लोगों का सड़क पर व्यवहार करने का रवैया। दिल्ली मे मै अक्सर खुद ड्राइव नही करता, दोस्त की एक गाड़ी और ड्राइवर लेकर, फैमिली सहित, कंही काम से जा रहा था। दक्षिण दिल्ली की बात रही होगी, आश्रम के पास एक हमारी गाड़ी के पीछे एक गाड़ी आ रही थी, जिसे एक लड़की चला रही थी, और जाने का पॉस मांग रही थी, आगे ट्रैफिक था इसलिए ड्राइवर पॉस नही दे पा रहा था। लड़की लगातार हार्न पर हार्न देती रही। अगली लाल बत्ती से जैसे ही गाड़ी आगे निकली, लड़की ने गाड़ी को हमारी गाड़ी के आगे लगा दिया और बाहर निकल कर सीधे हमारे ड्राइवर के पास आकर, माँ बहन की गालियां निकालने लगी। लड़की के मुँह से धाराप्रवाह गंदी गंदी गालियां सुनकर मै भी सकते मे आ गया। ऐसा नही कि हमने गालियां नही सुनी/दी, लेकिन फैमिली के साथ बातचीत के दौरान मजाल है कि कभी मुँह से कोई भी गलत शब्द निकल जाए। लेकिन लड़की के मुँह से धाराप्रवाह गालियां सुनकर, हम तो एकदम से सकते मे आ गए।

लड़की पढी लिखी लग रही थी, हमने तुरन्त हस्तक्षेप किया और पूछा कि शक्ल से तो तुम पढी लिखी लगती हो, क्या यही सही तरीका है रोड पर व्यवहार करने का। क्या यही कहती है हमारी सभ्यता? लड़की पर तो जैसे मेरी बात का कुछ असर ही नही हुआ, वो बदतमीजी से व्यवहार करती रही, ड्राइवर के गिरेहबान पर हाथ डालने लगी। ड्राइवर ने हमारी तरफ़ देखा, हमने भी बात न बनते देख, उसको आंखो ही आँखो मे गो अहेड का संकेत दे दिया, फिर क्या था, ड्राइवर ने उतर कर उसको उसी की भाषा मे समझाया कि गलती तुम्हारी थी, और अगर तुम इसी तरह से व्यवहार करती रही तो तुमको सीधे अंदर करवा देंगे। गालियों का बदला गालियों से मिलता देख, लड़की बड़बड़ाती हुई अपनी गाड़ी की तरफ़ चली गयी।

अब दोनो किस्से आपने सुने/पढे, आप खुद ही फर्क देखिए। दिल्ली मे घटित ने मुझे कई बातों सोचने के लिए मजबूर कर दिया कि :

  • क्या हमे सड़क पर व्यवहार करने का तरीका नही आता?
  • क्या हम गाड़ी खरीदकर सोचते है हमने सड़क भी खरीद ली है?
  • क्या हमारी लाइफस्टाइल काफी तनावपूर्ण है, और उस तनाव को हम सड़क पर निकालते है?
  • क्या हमे सड़क पर चलने वाले दूसरे लोगों की कतई परवाह नही होती?

आपका क्या सोचना है इस बारे में? अपनी प्रतिक्रिया लिखना मत भूलिएगा।

आप इन्हे भी पसंद करेंगे

7 Responses to “सड़क पर हमारा व्यवहार”

  1. वैसे दिल्ली मे ऐसे ही लोग ज्यादा है जो सड़क पर जरा सी बात पर ही एक दूसरे की इज्जत उताने का काम करते हैं…लेकिन कई बार ऐसे लोगों को भी देखा जा सकता है जो तुरन्त क्षमा माँग लेते हैं….लेकिन ऐसे लोग नाम मात्र के ही हैं। लेकिन आज आप का लेख पढ़ कर शायद किसी पर कोई असर हो…..
    .-= परमजीत बाली´s last blog ..ऐसा क्यो होता है…….. =-.

  2. जीतू भाई! देश अलग होगा तो अलग व्यवहार होगा न। हमारे यहाँ कानून की परवाह खुद सरकार नहीं करती। देश में जरूरत की १६% अदालतें हैं। सब जानते हैं कि उस के जीवन में तो फैसला होना नहीं है। वह क्यों घबराए? गवाही का वक्त आएगा तब तक अदालत को गवाह ही नहीं मिलेगा। कोई क्यों परवाह करे कानून की।
    .-= दिनेशराय द्विवेदी´s last blog ..नूरा कुश्ती! =-.

  3. अरे, आओ नारी ब्लॉग वालों आओ! यह पुरुषवादी पोस्ट है।
    .-= Gyan Dutt Pandey´s last blog ..थकोहम् =-.

  4. भाई यहां के शहरों में लोगों को चैन का टाइम नहीं है. भीड़ भीड़ भीड़.
    दूर कहीं पहाड़ी इलाक़े में चले जाओ अच्छा लगता है ये पाकर कि लोग यूं पारा हाथेली पे लिए नहीं घूमते हैं.

  5. इसके उलट अगर यही बात दिल्ली/कानपुर मे घटित होती तो क्या होता?

    होता क्या जी, दोनों पार्टियाँ आपस में एक दूसरे का स्तुति गान करती, पुलिस आकर मामला निपटाती और सड़क का ट्रैफिक तमाशबीन वेल्ले गाड़ीवाले जाम कर देते यह देखने को कि क्या हो रहा है!! इस तमाशबीनी और वेल्ले पन और बॉटलनेक्स पर मैंने भी लिखा है, उधर भी नज़र मारिए! 😡

    @परमजीत बाली साहब
    कभी यूपी की सड़कों पर गाड़ी चलाई है आपने? दिल्ली को तो भूल ही जाएँगे ऐसा मेरा दावा है। मैं दिल्ली और गुड़गाँव की सड़कों पर खूब ड्राईविंग की है लेकिन यूपी में कहीं जाना हो तो टेन्शन हो जाती है। मुख्यधारा यूपी भी छोड़िए, नोएडा या गाज़ियाबाद जाने में ही टेन्शन हो जाती है। दिल्ली में ट्रैफिक सिग्नल पर 10%-15% लोग सिग्नल तोड़ते हैं जबकि इन जगहों पर तो इतने ही प्रतिशत रूकते नज़र आते हैं और बाकियों के लिए सिग्नल का तो जैसे कोई अस्तित्व ही नहीं होता। 🙁
    .-= amit´s last blog ..थकेले विज्ञापनों का टॉर्चर….. =-.

  6. “उसको उसी की भाषा मे समझाया”

    कुवैत में बसने के बाद भी ‘कनपुरिया’ भाषा में आपका हाथ बहुत साफ़ है 🙂

    आपके फोटो कलेक्सन का पेज नहीं मिला 🙁

  7. वैसे अमेरिका में मेरा एक दोस्त है उसने भी कुछ ऐसी ही कहानी बताई थी. वहां का किस्सा था कि हमारे मित्र की गाडी को पीछे से किसी ने ठोका था और मित्र की गाडी ने बिना संकोच के अपने आगे वाली गाडी को ठोक दिया था.. लोग उसी तरह उतरे – एक दूसरे को अपने इन्सयूरेंस कंपनी और पोलिसी का डिटेल दिया और बस हंसी खुशी काम पे चल दिए. शायद हिन्दुस्तान में इस कल्चर को आने में थोडा वक़्त लगेगा.

    वैसे वही मित्र एक और घटना भी बता रहे थे. हुआ यों कि वो अमेरिका में अपने किसी दोस्त के साथ एअरपोर्ट आये थे, वही उनकी गाडी का दरवाजा खोलते वक़्त बगल वाली गाडी से जरा सा छु गया. बस एक लडकी निकली और बवाल मचा दिया.. अब मित्र टैक्सी में थे. दरवाज़ा उन्होंने खोला था. अब बहस बढ़ती ही चली गई. वैसे पुलिस भी आ गई . सबसे बड़ी समस्या ये थी कि मित्र को हवाई जहाज पकड़ना था.. तो वो तो भागे… उनका दोस्त और ड्राईवर बहस में पड़े रहे.. शायद किसी तरह मामला बाद में सुलझा.. पता नहीं क्या हुआ अंत में.. पर एक बात तो है, कि वहां इन्सयूरांस बहुत ही आसानी से सुलभ है और कुछ लोग उसका सदुपयोग करते हैं और कुछ दुरूपयोग.

    वैसे वो दिल्ली वाली लडकी बड़ी ही गंदी गाली दे रही होगी .. मैं सोच रहा हूँ, कि वह! रे दिल्ली.. तुझको भी अभी क्या क्या देखना है…
    .-= Neeraj´s last blog ..सब कुछ आपके अच्छे और भले के लिए ही हो रहा है. =-.