सोशल मीडिया रोग – व्हाट्सएप्पेरिया

नमस्कार!

आइये आज कुछ नयी तरह की बीमारी की बात करते हैं।  ये कुछ अजीब किस्म की बीमारी होती है, इसके लक्षण और उपचार भी अलग तरीके के हैं.

 

लक्षण

  • क्या आपका भी दिन मोबाइल पर व्हाट्सएप्प के ग्रुप की गुड मॉर्निंग से ही शरू होता है ?
  • क्या आप की तब तक सुबह नहीं होती , जब तक शिरडी वाले साईंबाबा के दर्शन आपके व्हाट्सएप्प  पर ना  हो?
  • क्या आप का खाना तब तक हज़म नहीं होता जब तक आपके नए प्रोफाइल पिक्चर पर पचास सौ लाइक ना आ जाएँ।
  • क्या आपको  तब तक चैन नहीं मिलता, जब तक आपकी नयी कविता वाली पोस्ट पर  दस बीस वाह-वाह नुमा टिप्पणियाँ ना मिले।
  • क्या आप भी उन लोगों में से है, जो बाज़ार लेने तो रुमाल गए थे, लेकिन ड्रेसिंग रुम में चार पाँच ड्रेस पहन कर अपनी डीपी  बदलते  है।

यदि ऊपर के सभी जवाब हाँ है, तो  यक़ीन मानिये आप एक भयंकर बीमारी से ग्रस्त है, जिसका नाम सोशल मीडेरिया या कहो व्हाट्सएप्पेरिया है, बहुत मुश्किल स्थिति है, दवा दारू से अब कुछ नहीं होना, सब कुछ प्रार्थना और ऊपर वाले की मर्जी पर निर्भर करता है। लेकिन ये स्थिति आयी कैसे? सबसे पहले व्हाट्सएप्प की बात करते हैं।

व्हाट्सएप्प एक ऐसा चैट वाला सॉफ्टवेयर है जहाँ आप चार पांच ग्रुप में तो बिना पूछे मेम्बर बना दिया जाते हो।  जैसे ससुराल वाले (जीजा साले वाले ग्रुप में ) , अब साला है, उसने आपको एक दो एडल्ट ग्रुप में बिना पूछे डाल ही दिया होगा। फिर आती है बात सालियों की, यदि २ से ज्यादा है, तो जाहिर है, उनकी आपस में पटेगी नहीं, इसलिए आप दोनों के ग्रुप में होंगे, फिर स्कूल वाले दोस्त, कॉलेज वाले यार, बस वाले हमसफ़र , ट्रैन वाले मित्र , ऑफिस वाले आपके नीचे काम करने वालों का ग्रुप जिन्होंने आपको इसलिए जोड़ा ताकि ऊपर की खबर मिलती रही, ऑफिस के बॉस वाला ग्रुप  – ताकि बॉस को पता चलता रहे कि आप रात को कितने बजे तक जागे और उसके जोक पर हँसे क्यों नहीं , बिल्डिंग वाले, पुरानी कंपनी वाले, शेयर मार्केट वाले, शौंकिया दोस्त, कभी कभार वाले मित्र, फिर आपके भाई भतीजे वाले ग्रुप। अभी गिनाने बैठा तो पूरी पोस्ट निकल जायेगी। कहने का मतलब या है की सारा दिन तो व्हाट्सएप्प के चुटकुले और संदेश पढ़ने में निकल जाता है, बंदा काम कब करेगा?

व्हाट्सएप्प के ग्रुप

  • ससुराल पक्ष वाला ग्रुप, इसमें आपको बिना पढ़े वाह वाह करना पड़ता है, मज़ाल है कि आप चूं चा भी कर सके, म्यूट करने का तो सोचना भी मत।
  • साला और उसके ठरकी दोस्तों का डर्टी जोक वाला ग्रुप।  जरूरी नहीं सिर्फ आपका साला ही ठरकी हो, आपके दोस्तों वाले ग्रुप में भी कोई ना कोई होगा ही।
  • आपके पक्ष (भाई भतीजे) वाला ग्रुप। आपको बीच बीच में हाँ हूँ करना ही पड़ता है, नहीं तो जोरू का गुलाम वाला लेबल लग जाएगा।
  • पुराने ऑफिस वाले बन्दों का ग्रुप, इसमें आप इसी लिए लटके है , क्योंकि आपकी पुरानी वाली सहकर्मी का अभी अभी तलाक़ हुआ है, और आप अभी भी उम्मीद बांधे हैं।
  • ऑफिस के सहकर्मियों का ग्रुप, आपके कनिष्ठ साथियों का ग्रुप, वहां आप इसलिए है, क्योंकि वो ऊपर की बाते जानना चाहते है।
  • फिर बॉस वाला ग्रुप, क्योंकि बॉस को भी तो अपने जोक्स पर हँसने वाला चाहिए ना?
  • शेयर मार्किट वाला ग्रुप, रोज़ाना टिप देने वाले और शाम को बताने वाले की कितना कमाया और आप निकम्मे नाकारा है।
  • प्रॉपर्टी वाला ग्रुप , जो यही बताते है, कि यदि आज नहीं लिया तो कल से रेट बढ़ जाने वाले है।
  • सोसाइटी के सेक्रेटरी बनर्जी साहेब का बनाया हुआ ग्रुप, ये बताने के लिए कि उन्होंने सोसाइटी के लिए कितना काम किया।
  • कम्युनिटी वाला ग्रुप , सोशल सर्विस वाला ग्रुप
  • गपशप वाला ग्रुप
  • धीर गंभीर विचार विमर्श वाला ग्रुप।
  • सांस्कृतिक और दार्शनिक विचारधारा वाला ग्रुप।
  • बीजेपी और कांग्रेसी विचारधारा वाला ग्रुप
  • निकट पारिवारिक ग्रुप, दूरस्थ आपके रिश्तेदारों वाला ग्रुप।
  • अलाना ग्रुप, फलाना ग्रुप।

whatsapp photo

किस्म किस्म के संदेश 

  1. गुड मॉर्निंग वाले संदेशे, गोया कि इनका मैसेज नहीं आया तो सुबह नहीं होगी।
  2. कुछ मैसेज आते है, जिसमे उस मैसेज को १० लोगों तक पहुँचाने की बात कही जाती है, नहीं तो अनर्थ हो जाएगा।
  3. कोई शिरडी, कोई बालाजी और कोई कैलाश मानसरोवर के दर्शन कराने वाले संदेश।
  4. कोई टूटे हुए दिल के निकली हुई आह वाले सन्देश।
  5. चीन के शुन्झुन प्रान्त में छोटे बच्चे के नाचने वाला वीडियो सन्देश।
  6. शेरो शायरी वाले मैसेज
  7. पहेलियों और क्विज वाले मैसेज
  8. मोदी सरकार की उपलब्धियों वाले मैसेज
  9. मोदी सर्कार के खिलाफ वाले मैसेज
  10. चमत्कार वाले मैसेज
  11. प्राकृतिक चिकित्सा वाले मैसेज
  12. हर तरह के रोगो का उपचार
  13. पानी ज्यादा पीने के फायदे वाला मैसेज
  14. पानी ज्यादा पीने के नुक्सान वाला मैसेज
  15. वीर जवानो को एक सैल्यूट ठोकने वाला मैसेज
  16. पाकिस्तान को ललकारने वाला मैसेज
  17. टीवी पत्रकारों के समर्थन और खिलाफ वाले मैसेज
  18. क्रिकेट वाले मैसेज
  19. हॉकी को भुलाने पर गरियाने वाले मैसेज
  20. हर तरह के वेज और नॉन वेज जोक्स
  21. तीन साल पहले हुए हादसे का वीडियो, फिर से पेश करने वाला मैसेज
  22. अफ़वाह फ़ैलाने वाले मैसेज
  23. संत वाणी
  24. संगीत की डॉउनलोड फाइलों के लिंक वाले मैसेज
  25. अकारण डराने वाले मैसेज
  26. अकारण खुश करने वाले मैसेज
  27. बाबा रामदेव के पक्ष और विपक्ष वाले मैसेज
  28. ख़ूबसूरत फूल पत्ती , पशु पक्षी वाले मैसेज
  29. स्थानीय सेल वाले मैसेज
  30. फिल्मो से सम्बंधित मैसेज

उपचार

अब बीमारी की बात तो हो गयी, थोड़ा उपचार की भी बात कर ली जाए।

  • सबसे पहले तो अपने मोबाइल पर चार पांच तरह के लॉक लगाइये , फिंगरप्रिंट, फेस , कोड, पैटर्न जितना हो सके लगाइये।
  • व्हाट्सएप्प के सारे ग्रुप को म्यूट (मौन) कर दीजिये, एक साल के लिए।
  • सभी ग्रुप में फैला दीजिये कि आप शांति की खोज में, स्वामी जितेंद्रानंद के आश्रम में आत्मचिंतन करने जा रहे हैं और आश्रम में वाईफाई नहीं है।
  • जिन ग्रुप में आपको जबरदस्ती सदस्य बनाया गया (ससुराल या दुसरे) वहां पर आप अपनी निष्पक्ष राय रखिये, यदि जोक पुराना है तो हँसिये मत, बेतुकी सी स्माइली दीजिये, या फिर बेझिझक बोल दीजिये।
  • अपनी पसंद नापसंद बताना शुरू कर दीजिये। लोग अपने आप पक जाएंगे।
  • निष्पक्ष राय देना शुरू कर दीजिये, आलोचना करने की आदत डालिये वो जैसे कन्या राशि (Virgo ) वाले होते है ना वैसे ही।
  • इस तरह से आप कुछ ग्रुप से वैसे ही निकाल  दिए जाएंगे, या फिर लोग आपको अलग थलग करके नया ग्रुप बना  लेंगे, आपका क्या?
  • उल जुलूल विषयों पर अपनी निष्पक्ष राय व्यक्त करिये , विषय के लिए अलग से संपर्क करिये।
  • लोगों को डीपी पर वाह वाह मत करिये, उसकी जगह कहिये, “तुम पर ये कलर सूट नहीं करता”, “नीला थोड़ा ज्यादा नीला नहीं है?” वगैरहा वगैरहा  , यकीन मानिए, आपको लोग ब्लॉक ना करें तो कहियेगा।

इस तरह से आपको सोशल मीडिया से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा, आपका काफी फायदा हो जाएगा, जो समय मिले उसका सदुपयोग  पढ़ने  और लिखने में  करें, यक़ीन मानिए, आपको काफी अच्छा लगा  लगेगा, तो फिर आते रहिये और पढ़ते रहिये आपका पसंदीदा ब्लॉग।

 

 

 

 

 

जरुरी सूचना

मेरा पन्ना पर टिप्पणी करने वालों के लिए एक तोहफा। आप टिप्पणी करिए और अपने ब्लॉग का पता सही सही भरिए, हम आपके ब्लॉग की आखिरी पोस्ट का लिंक यहाँ दिखा देंगे। इससे आपके ब्लॉग को कुछ और पाठक मिलेंगे। है ना सही चीज? तो फिर देर किस बात की है, शुरु हो जाइए।

Leave a Reply