होली है!


holi
चित्र साभार : डिग्रीटिंग्स डाट काम

हिन्दी चिट्ठाकारो और उनके परिवार को मेरा पन्ना की तरफ़ से होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं। आइए इस होली मे पिछले सारे गिले शिकवे भूलकर, फिर से इन्टरनैट पर हिन्दी को आगे बढाने मे सहयोग करें।

होली मनाइए, जी भर के गुलाल खेलिए। बच्चों का विशेष ध्यान रखिए। ध्यान रहे, किसी को गुलाल तो लगाए, लेकिन उसका चेहरा गुस्से से लाल ना हो। प्यार मोहब्बत से रंगो का त्योहार मनाइए, खूब गुझिया, नमकीन और मिठाई खाइए। (हमारे हिस्से के मत खाना, वरना……) और हाँ भौजी ( महिला ब्लॉगर अपने पति को पढे) को हमारी तरफ़ से गुलाल लगा देना। (कुंवारे लोग अपनी गर्ल/ब्वाय फ़्रेन्ड को)

जब होली खेल कर थक जाएं तो हमारे होली पर लिखे पुराने लेखों को पढिएगा । होली के सम्बंध मे मेरे पिछले लेख यहाँ पर देखिए :

हम तो आज ही (शुक्रवार को) होली खेलने जा रहे है, लौट कर वहाँ का हाल बताएंगे।

11 Responses to “होली है!”

  1. होली पर मुठ्ठी भर गुलाल और ढ़ेर सारी शुभकामनाएं .

  2. बडे भाई आपको होली की शुभकामनाएं क़बूल हों

  3. होली की शुभकामनाएँ ।
    घुघूती बासूती

  4. होली की शुभकामनाएं जीतूजी.होली के हाल का इंतज़ार है

  5. रंग बिरंगी होली मुबारक हो…..

    होली है…

  6. होली पर आपको एक बाल्टी रंग के साथ बहुत मुबारकबाद!!

  7. रंगों के पर्व पर शुभकामनाएं

  8. राकेश खंडेलवाल on मार्च 2nd, 2007 at 6:16 pm

    मौसम ने है रंग भरी मस्ती की आज गठरिया खोली
    चलो लूट लो चाहे जितनी, हाथ बढ़ाकर भर लो झोली
    राग द्वेष सब भूल बैरियों को भी अपने अंक सजा लो
    लेकर यह सन्देश आज फिर आई है आँगन में होली

  9. रंगों के मौसम में कोई भला कैसे गिला करे…
    सभी का इतना प्यार उभरा है गीत मालाओं
    के साथ…।
    जीतू भाई…होली की शुभकामनाएँ स्वीकारे…।

  10. आपको भी होली मुबारक जी। 🙂

    लगे हाथ पुराने लेख पढ़वाने का अच्छा तरीका खोजा ताऊ। 😉

  11. जीतु जी
    होली की बधाईयां व शुभकामनाएँ स्वीकार करें