आतंकवाद पर सरकारी वक्तव्य और मिर्जा की प्रतिक्रिया

Tweet लीजिए पेश है आतंकवाद पर कुछ सरकारी वक्तव्य और उनपर हमारे एक्सपर्ट मिर्जा साहब की प्रतिक्रिया। मिर्जासाहब हमारे ब्लॉग सबसे पुराने पात्र है। नए लोगों को मिर्जा साहब का थोड़ा परिचय दे दिया जाए। मिर्जासाहब लखनऊ से है, जुबान अवधी लेकिन गालियां देने मे कानपुरियों को भी मात करते है। उनका ऐसा कोई वाक्य […]

बीत गया ये साल भी

Tweet लो जी, ये साल भी गुजर गया। ऐसा लगता है कि अभी अभी ही तो साल शुरु हुआ था, इत्ती जल्दी खत्म भी हो गया, लगता है इस साल को पर लग गए, तभी तो जल्दी जल्दी निकल गया। हम भी इस साल कुल जमा तीस लेख ही लिख पाए, बकौल मिर्जा लानत है […]

रीठेल : कलियुग मे लंका सेतु निर्माण

Tweet साथियों, पेश है, लगभग तीन साल पहले लिखा हुआ मेरे एक लेख का रीठेल। यह एक काल्पनिक लेख है, इसका उद्देश्य किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाना नही है। इसलिए इसको सिर्फ़ मनोरंजन की दृष्टिकोण से ही पढा जाए। सबसे पहले तो एक डिसक्लेमर: यह एक काल्पनिक लेख है, इसका उद्देश्य लोगों को […]

उड़नतश्तरी अवतरण का दिन

Tweet भाई आप लोग कुछ गलत सलत ना समझें। आज हिन्दी जगत के लोकप्रिय ब्लॉगर श्री , जनाब भाई समीर लाल ’उड़नतश्तरी’ कनाडे वाले का जन्मदिन है। समीर भाई हिन्दी ब्लॉगजगत के सबसे भारी भरकम ब्लॉगरों मे से है, यकीन ना आए तो वजन कराकर देख लो। समीर भाई को लोग टिप्पणी सम्राट भी कहते […]

हर्जाना पाने का अनूठा तरीका

Tweet ये भी खूब रही। अमरीकन संगीतकार डेव 2008 मे यूनाईटेड एयरलाइंस से यात्रा कर रहे थे। यात्रा के दौरान इनका 3500 डालर का गिटार , एयरलाइंस के कर्मचारियों की लापरवाही से टूट गया। संगीतकार ने दावा किया, एयरलाइंस ने इसको ठुकरा दिया। लेकिन इस संगीतकार ने एयरलाइंस का ध्यान आकर्षित करने के लिए एक […]

ठलुआ पार्टी

Tweet आप लोग पूछेंगे ठलुआ क्या होता है? ठलुवा बहुत विस्तृत शब्द है, ठलुआ मतलब बिना काम काज वाला बन्दा। वैसे तो अपने हिन्दी ब्लॉगजगत मे भी ठलुआ ब्लॉगर हुए है, जो बड़े शान से अपने आप को ठलुआ कहलाते है, ये बात और है कि अपने (ब्लॉग के) नाम के अनुरुप, व्यवहार नही कर […]

रीठेल : मोहल्ले का प्रेम प्रसंग

अब जब रीठेल का मौसम चल ही रहा है तो हमने भी बहती गंगा मे हाथ धोना सही समझा। लीजिए पेश है, चार साल पूर्व (नवम्बर 2004) लिखा हुआ मेरे एक लेख का रीठेल। अब आप इसे मौके की नजाकत कहिए या समय की मांग, बढते ब्लॉगरों और घटते ब्लॉगिंग समय के कारण, अब रीठेल जरुरी हो गया है। तो जनाब आज हम आपको रुबरु कराने जा रहे है, हम अपने मोहल्ले के एक प्रेम प्रसंग से। ऐसे प्रेम प्रसंग हर मोहल्ले मे होते है, लेकिन हर मोहल्ले मे हमारे जैसे शैतान बच्चे नही हुआ करते थे। आप भी देखिए और पढिए हमारे बचपन की शैतानियों से भरे इस मोहल्ले के प्रेम प्रसंग को। वैसे तो इस प्रेम प्रसंग के सभी पात्र वास्तविक है, अलबत्ता हमने उनके नाम बदल दिए है, ताकि हमे जूते ना पड़े, फिर भी आप इसे मस्ती के लिए पढिए, इवेस्टीगेशन के लिए नही।

आईपीएल: जमने लगा है रंग

Tweet जैसा कि आपको पता ही है, बीसीसीसीआई का सर्कस (हाँ जी, कई लोग इसे इसी नाम से पुकारते है) यानि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) T20 टूर्नामेंट पूरे तामझाम और धूमधाम से शुरु हो चुका है। डीएलएफ़ और ढेर सारे अन्य प्रायोजक द्वारा प्रायोजित इस टूर्नामेंट मे लाखो करोड़ो के दाँव लगे है। व्यापरियों से […]

बॉयोडाटा मे क्या होना चाहिए

Tweet किसी भी नौकरी के लिए आपको अपना बॉयोडाटा/CV जरुर बनाना पड़ता है। ये आपका संदेश वाहक होता है। यह सबसे महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है। इसके अच्छे बुरे होने की दशा मे आप ही उसके सबसे बड़े भुक्तभोगी होते है। ये आपके व्यक्तित्व का प्रथमावलोकन होता है और अंग्रेजी मे तो कहते है ना 1st […]