एक पुराना मौसम

एक पुराना मौसम लौटा याद भरी पुरवाई भी
ऐसा तो कम ही होता है वो भी हो तन्हाई भी

यादों की बौछारों से जब पलकें भीगने लगतीं हैं
कितनी सौंधी लगती है तब मांझी की स्र्स्वाई भी

दो दो शक़्लें दिखती हैं इस बहके से आईने में
मेरे साथ चला आया है आप का इल सौदाई भी

ख़ामोशी का हासिल भी इक लम्बी सी ख़ामोशी है
उन की बात सुनी भी हमने अपनी बात सुनाई भी
-‍गुलजार साहब

Comments are closed.