The final secrets for getting organized

Getting a extent is challenging deliver the results. You will discover no two approaches to say it. The secret to success to successes should be about organising your workload and lodging in front of the match. But you have never simply had to arrange work on this rate prior to when have you?

Do not be concerned. Now we have constructed the best help guide tohelp i can write my essay vacationing arranged while you work on a college degree.

Your workdesk

The desk in your own room or space, no matter if it’s halls or even embraced residence, will likely be the hub of the working living. If it’s jumbled with data, fag stops, and unfilled dark beer cans, it won’t stimulate a running mindset. Our recommendation is that you continue your office as tidy as possible, but we recognize that some individuals have way for you to their madness and be successful in prepared mayhem.

There are several cubical fundamentals to keep you arranged:

  • Have a whiteboard higher than your screen to monitor work deadlines, get the job done that’s been comprehensive, and on-going plans to glance at in the travel.
  • Save snack foods like fruit and various nuts about the table for when you’re running particularly long stints on work. There’s absolutely nothing more frustrating than planning to operate before eating anything.
  • Get hold of a nice light fixture to your workplace. You will certainly be doing work at 1 AM and you will want some reasonable lighting fixtures to find out you textbooks in.
  • An innovative bench. Places provides you with a couch to your office, even so it won’t often be a confident just one. Do not forget, you will be having to spend extended hours studying during that lounge chair, so be sure you purchase a comfortable you.
  • Hang a time clock next to your whiteboard. It’s really good to observe the length of time some section of deliver the results has brought you. Additionally, you will want to determine the some time and you shouldn’t have your mobile phone at hand. It’ll only become a diversion.

Do not multiple-endeavor

It will be inviting to attempt to juggle your university plans at once. We highly recommend write-my-essay. Most experts all agree that multiple tasking basically contains a unfavorable impact on the work. It is wise to obstruct your time and efforts and operate on a single undertaking in its bristling entirety. Surface texture it. And after that move on to next.

This makes sure that the task you are accomplishing for 1 endeavor has your undivided consideration, ensuring an increased common.

Buy a advisor

There is a great deal to remember on the subject of institution. From lecture moments to coach titles and emails – it’s all simply forgotten. Acquire a advisor and road map out per week. Keep on notice of deadlines inside your advisor also, examining it each day.

They’re a wonderful way to continue to be over your work deadlines!

Do not wish to have a physical coordinator spherical? Utilize your mobile phone or tablet’s calendar.

Carry pauses

Like we pointed out, your workload will definitely get over you sometime. As it is like it is growing too much, get a morning out. These breaks are necessary relating to being fuelled and enthusiastic to complete the project one has.

Just take smashes when working in excess of extended ventures likewise. If you happen to spend time at your workplace for 8 countless hours direct you are visiting turn out to be distressed and dash thru jobs. Go forth to obtain a operated, nip into the club with friends, view a movie – just get off perform for a time. It will make a massive improvement.this contact form

Tupac On Education, Pennington On WA, Airplanes And Subways, Sara Mead Will Get You A Charter Classes Time This Week end! In addition to Learner Tied Flies…

Sensible good this week end by doing business these seven charter institution information in your game, due to Sara Mead.

Who consumed what? When? $200,000 is a lot of Subway. This is an straightforward aim for. But I’d be interested in some very similar knowledge, Chicago General public Educational institutions is a labour-substantial $5.7 billion dollars challenge (and that is just managing finances). So what can very similar ventures pay money for help me write my essay staff member diet? I don’t hope my workers to dark brown travelling bag their expert design sessions…and if we do training seminars with tutors we spring season for lunch break. Everything claimed, there in reality are many considerably healthier selections in Chicago than this…

Economist, Clark medal champion, McArthur other, and severe empiricist Roland Fryer might be a board of teaching fellow member – so great. He’s the particular terms. Also, seems like fork out-every-look at profits prospects now are readily available for Massachusetts in and around its board meetings? MA has a heritage of serious and iconoclastic table affiliates, this fellow would explode heads in the majority of states…

Kaitlin Pennington on coach review and Seattle – and consequences. Whitmire and so i check out WA charter consequences.

There is a student at Western Albemarle Highschool in Crozet, Virginia (Go Fighters!) who has introduced their own fly fishing business. E-mail me not online if you would like be associated.

By means of Bellwether, here is Tupac on training.

This full charter debate is so very a great deal less bonkers with data. Simple answer to liven it? A great deal more planes!

Citizens are now dealing with this…Washington Posting awareness at this time, too…Seems like there may be some damaging historical background on this page (at this particular institution, besides in general…) as well as college managers take the suitable side area of Tinker so far.

Browse along this web page for a couple of edujobs and then for Dan Weisberg, Adair Bard, Patrick McGuinn, and other people with species of fish. check here

आज का विचार

क्या हम भारतीय गंदगी पसंद लोग है?

जब हम विदेशों में जाते हैं, तो बड़े सभ्य बन जाते हैं, लेकिन भारत लौटने पर फिर वही करने लगते हैं, जैसा बाकी कर रहे होते हैं। आखिर क्या वजह है कि हम गंदगी से पीछा नही छुड़ा पाते? 

अपने विचार टिप्पणी में व्यक्त करिएगा । आते रहिए और पढते रहिए अपना पसंदीदा ब्लॉग।





चुनाव और नेताओं की आत्मा की आवाज

बहुत दिनों बाद आपसे मुखातिब हुआ हूँ, क्या करें मुआ ट्विटर और फेसबुक जान छोड़े तब ना। आज भी ये वाली पोस्ट मोबाइल से ही लिख रहा हूँ, लैपटॉप खोले तो जमाना हो गया।

तो भैया, हम बात कर रहे हैं नेताओं की अंतरात्मा की, मिर्जा पीछे से बड़बड़ा रहे हैं ‘जो चीज होती नही उसके बारे में बात काहे करें।’  सही कहा, इन नेताओं के पास या तो आत्मा होती नही और अगर कंही अपवाद स्वरूप होती भी है तो चुनाव आने तक सोती रहती हैं।

इसी तरह के एक नेता हैं, राम बिलास पासवान, इन्होंने आत्मा की आवाज पर दलबदल करने में पीएचडी कर रखी है, इनकी आत्मा की आवाज हर चुनाव के पहले इनको आवाज देकर कहती हैं, जा, जीतने वाले पक्ष की तरफ पालाबदल कर। आजकल मोदी की हवा देखकर ये एनडीए के पाले में है, कल कहां होंगे खुद इनको नही पता।

अब ये अकेले दलबदलू नेता हैं, एेसा नही है, अजीत सिंह, झारखंड मुक्ति मोर्चा वाले, मायावती और भी ढेर सारे नेता हैं जो आत्मा की आवाज वाली सियासत करते हैं, विचारधारा गयी तेल लेने।

मोबाइल पर ब्लॉग लिखना कठिन है, इसलिए अभी लेख समेटते हैं, मिलते रहिये और पढते रहिए मेरा पन्ना।

धन्यवाद सुप्रीम कोर्ट

आज बहुत दिनो बाद ब्लॉग लिखने बैठा हूँ, समझ मे नही आता कि क्या लिखू, हमेशा की तरह अपने व्यस्त होने का बहाना बनाऊ या फिर फेसबुक/ट्विट्टर पर अतिव्यस्त होने का रोना रोऊँ. ब्लॉग लेखन एक अलग तरह का लेखन है, जिसमे आपको टाइम देना पड़ता है. फेसबुक और ट्विट्टर फास्ट फ़ूड कि तरह है, जब मन किया ट्वीट कर लिया. जबकि  ब्लॉग लेखन एक पूरे भोजन की तरह है. आप पाठकों तक अपनी बात ठीक ढंग से पहुंचा सकते है.

आज खबर देखी कि सुप्रीम कोर्ट ने मतदाताओं को राईट टू रिजेक्ट का विकल्प उपलब्ध करवाया है,सीधे शब्दों में, इसका मतलब है कि वोटर को लगता है कि एक भी उम्मीदवार उसके वोट के लायक नहीं है और यह बात दर्ज करवाना चाहता है ताकि बाद में बोगस वोटर उसके वोट का बेजा इस्तेमाल न कर लें. इसका मतलब है कि यदि आप चुनाव में खड़े सभी प्रत्याशियों को रिजेक्ट करना चाहते है तो आप अब कर सकते है. अभी यह तय नहीं है कि इसका प्रयोग आने वाले आम चुनावों तक हो सकेगा अथवा नहीं. अभी तक यह सुविधा दुनिया के कुछ चुनींदा देशों में ही उपलब्ध थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के इस निर्णय से भारत के मतदाता भी इस नयी सुविधा  का प्रयोग कर सकेंगे.

कुछ भी हो, यह निर्णय भारत के लोकतंत्र में एक मील का पत्थर साबित होगा. धन्यवाद सुप्रीम कोर्ट आपके इस निर्णय का हम तहे दिल से स्वागत करते है.

आज से मैंने अपने ब्लॉग को लिखने के लिए विंडोज लाइव राइटर  और भाषा इण्डिया सॉफ्टवेयर का प्रयोग कर रहा हूँ, हो सकता है इस लेख को लिखने में कुछ मात्रा वगैरह की गलतियाँ दिखे,कृपया उसे अनदेखा करियेगा. धीरे धीरे मेरा हाथ नए वाले सॉफ्टवेर पर सध जाएगा. यदि किसी को लाइव राइटर पर हिंदी शब्दकोष का पता हो तो जरूर बताये.

तो फिर आते रहिये और पढते रहिये, आपका पसंदीदा ब्लॉग मेरा पन्ना.


होली का हुड़दंग

आज होली है, इंटरनेट और फ़ेसबूक पर सभी दोस्त यार एक दूसरे को होली की शुभकामनाएँ दे रहे है। लेकिन हमारी स्थिति अजीब है, हम ऑफिस में बैठे हुए अभी भी उन ऊलजुलूल सॉफ्टवेयर और प्रोजेक्ट मैनेजमेंट  में व्यस्त है, हमारे यहाँ कुवैत में सारे त्योहार वीकेंड यानि शुक्रवार/शनिवार को शिफ्ट कर दिये जाते है, वो भले ही होली/दिवाली हो या किसी भी महानुभाव का जन्मदिन, बंदा ऊपर बैठे बैठ गुजारिश करता है कि भाई मेरा जन्मदिन आज है आज ही मना  लो, मेरी आत्मा को शांति मिलेगी, लेकिन ना, यहाँ वाले कुछ नहीं सुनते, बोलते हैं मनाएंगे तो वीकेंड में ही, खैर हमे क्या, हमे तो जब मनाने को बोलोगे तब मना लेंगे। खैर बात हो रही थी, होली की।

हम वैसे तो अपने मोहल्ले की होली को विस्तार से लिख चुके हैं, अगर आपने ना पढ़ी हो तो हमारे ये दोनों लेख जरूर पढ़ लें, ताकि सनद रहे और वक्त जरूरत काम आए। मजा आए तो टिप्पणी जरूर करिएगा।
फाल्गुन आयो रे भाग एक
फाल्गुन आयो रे भाग दो

तो जनाब सबसे पहले तो आप सभी को होली की बहुत बहुत शुभकामनाएँ। होली का नाम सुनते ही लोगो में जोश भर जाता है, हालांकि अब वो पहले जैसी बात नहीं रही। हमारे जमाने में होली की तैयारियां तो लगभग एक महीने पहले से करी जाती थी। वो वानर सेना की मीटिंग, होली मनाने के तरीके, झगड़े, पंगे, कमीज फटाई, मार कुटाई, लगभग पूरी संसद जैसा माहौल था। निर्णय वही होता था, जो हम चाहते थे, लेकिन बिना ये सब किए मजा नहीं आता था, इसलिए होली का पहला आइटम यही होता था। अब जब निर्णय हो चुका हो तो अगला काम होता था, एक कमेटी बनाना जो होली के पूरे आयोजन की देखरेख करेगी। फिर चंदे के लिए बड़े बकरों माफ करिएगा चंदा दानदाताओं की पहचान करी जाती थी, फिर उनसे निवेदन (?#$#@ करके ) किया जाता था कि भई होली है, आप भी थोड़ा लोड उठाओ। अगर हम आपको ये नहीं बताते कि हम होली का चंदा इकट्ठा कर रहे है, आप समझते कि हम राष्ट्रीय चुनाव कि बात कर रहे है। चंदे का खेल ऐसा ही होता है, होली का चंदा हो या राष्ट्रीय चुनाव। अब हम चंदे कि पूरी प्रक्रिया पिछले लेख में बता चुके हैं, इसलिए हम दोबारा नहीं लिखेंगे।

Holi Image

होली वाले दिन पूरा हुड़दंग होता था, लाउडस्पीकर का शोर, वही घिसे पिटे पुराने होली गीत से शुरू होते होते, हेलन (भई हमारे जमाने में सिर्फ वही आइटम नंबर करती थी, हीरोइने तो सिर्फ नखरे ही दिखाती थी ) के गीतों तक पहुंचा जाता था। कभी कभी कुछ बाजारू भोजपुरी गीतों को भी चलाया जाता था, लेकिन किसी के ठीक से  समझ में आने पहले ही हटा लिया जाता था। ये सब हम कुछ पुराने ठरकी बुजुर्गो की विशेष फरमाइश पर चलाते थे, जिनकी जोशे जवानी तो एक्सपायर हो चुकी थी, लेकिन उमंगे अभी भी जवान थी। ये सब मुफ्त में नहीं होता था, इसके लिए बकायदा विशेष चंदा वसूला जाता था।

शुकुल की विशेष मांग पर चमचम रेडियो वाले की बात लिखी जा रही है। चमचम रेडियो वाले के दो ही शौंक थे, भांग खाना और नवाबी शौंक। अब नवाबी शौंक क्या होता है, हम यहाँ पर नहीं लिख सकते, शुकुल से पूछा जाए। होली पर भांग का विशेष इंतेजाम किया जाता था, इसके लिए चंदे के पैसों में पूरा प्रोविज़न रखा जाता। चमचम रेडियो वाला (हम उसका नाम भैयाजी रख लेते हैं), तो भैयाजी भांग बहुत खाते थे, हमेशा आँखें चढ़ी चढ़ी रहती थी। मोहल्ले में पूरी तरह से बदनाम था, अक्सर अपने में ही खोया रहता था, पूछो कुछ तो जवाब कुछ और देता था, लेकिन अपने काम में माहिर था। अब मोहल्ले में लाउडस्पीकर किराए पर देने वाली भी इकलौती दुकान थी, इसलिए भैयाजी के अलावा हमारे पास कोई और जुगाड़ भी नहीं था। फिर ऊपर से हमे भैयाजी के अलावा उधार भी कौन देता, हमारी कौन सी  अच्छी साख थी? तो फिर लाउडस्पीकर के लिए भैयाजी फ़ाइनल। अब भैयाजी की वर्माजी कि मँझली बिटिया से सेटिंग थी।  अब ये कैसे हुई, अरे भई, हम मोहल्ले में लाउडस्पीकर लगवाने के लिए जगह का सर्वे कर रहे थे, तब वर्माजी की बिटिया खिड़की से झांक रही थी, बस वहीं भैयाजी और वर्माजी की बिटिया के बीच आखें दो और पौने चार हुई। अब पौने चार कैसे, यार भैयाजी की बायीं आँख थोड़ी कम खुलती है ना इसलिए। तो फिर जनाब, भैयाजी अटक गए, बोले सेटिंग हो गयी है, लाउडस्पीकर तो वर्माजी के घर में ही लगेगा, सबने समझाया लेकिन भैयाजी नहीं माने. हम भी ताड़ गए थे, कि माजरा क्या है, खैर हमने शर्त रख थी, जगह का चुनाव  भैयाजी का, लेकिन पेमेंट कितना और कब मिलेगा, वो  हमारी मर्जी। कहते हैं प्यार में आदमी (सिर्फ आदमी, औरत क्यों नहीं?) अंधा हो जाता है, अब भैयाजी के प्यार के अंधेपन का हम लोगों ने  फायदा ना उठाया तो फिर क्या किया।  तो फिर डील हो गयी, डिसाइड हो गया लाउडस्पीकर वर्माजी के द्वारे ही लगेगा। बिजली के बिल का पंगा था ही नहीं, उस जमाने में कटिया लगाना भी एक शौंक था। फिर मोहल्ले के त्योहार और कटिया न लगे, ऐसे कैसे हो सकता था?  इसलिए फ्री में लाउडस्पीकर घर के बाहर लगे, तो वर्माजी को काहे की परेशानी।


खैर वर्माजी खुश, भैयाजी खुश, वर्माजी की बिटिया खुश तो हम और आप काहे को चिंता करें। हम भी खुशी खुशी होली मनाएँ। भैयाजी को लाउडस्पीकर के बहाने वर्माजी के घर में एंट्री मिल गयी। वो हर पाँच दस मिनट में लड़की के इशारे होते ही, घर में अंदर हो जाता और फिर तभी बाहर निकलता जब घर के किसी बड़े बुजुर्ग को उसके होने का आभास होता या फिर बाहर वानर सेना वाला  भैयाजी को गालियों से नहीं नवाजता। ये अंदर बाहर ,बाहर अंदर सब कुछ सही चल रहा था, हम डील के हाथों बंधे थे, वानर सेना को पूरी स्थिति की जानकारी नहीं थी, वर्माजी अपने आप में बिजी थे, वरमाइन पकवान बनाने में। लेकिन वो कहते है न, इश्क़ और मुश्क (ये मुश्क क्या होता है?) छिपाए नहीं छिपते, इसलिए बैरी जमाने को भैयाजी के इस प्रेम प्रसंग की खबर लग गयी। हुआ यूं की भैयाजी भांग की पिनक में वर्माजी के घर होली मिलने चले गए और काफी देर घर के अंदर ही रहे, नहीं भाई, होली मिलन कोई गुनाह थोड़े ही है, लेकिन अगर आप होली के दो महीने बाद होली मिलने जा रहे हो तो पक्का पंगा है। वही हुआ, भैयाजी रंगे हाथों (ये मुहावरा गलत है, रंगे हाथों का मतलब आज तक समझ में नहीं आया ) पकड़े गए, फिर जैसा होता है, वही हुआ, लड़की मुकर गयी, इसलिए सिर्फ डांट पड़ी, लेकिन भैया जी, भैयाजी की तो जमकर सुताई हुई। शोर सुनकर मोहल्ले वाले भी हाथ बटाने पहुँच गए।  वर्माजी और मोहल्ले वाले , जब मार मार कर थक गए तो उन्होने पिटाई का काम वानर सेना को आउटसोर्स कर दिया। हम लोग भी पूरे मजे ले लेकर भैयाजी को मारे, हर ऐसी वैसी जगह पर मारा गया, जहां से उनके नवाबी शौंक परवान चढ़ते  थे।  अब चूंकि  भैयाजी ने हमारी वानर सेना के एक वानर को भी अपने नवाबी शौंक का शिकार बनाया था, इसलिए उस वानर ने भी अपनी जमकर भड़ास निकली। इस तरह से भैयाजी को उनके किए (या बिना किए ) की सजा मिली।

खैर हम मुद्दे से न भटके, बात होली की हो रही थी, ये तो भैयाजी को शुकुल पकड़ कर ले आए बीच में। अब होली का जिक्र हो और धरतीधकेल नेताजी (मोहल्ले के छुट भैया नेता, आजकल बहुत नाम और नामा  कमा रहे हैं, नहीं भई, हम उनका नाम नहीं लेंगे, डील है) की बात न हो। हमारे नेताजी का कहना था, कि वो जमीन से जुड़े हुए नेता है। हम लोग इसका नमूना हर होली में, नेताजी को जमीन पर लोटते हुए देखते थे,इसलिए हम भी इस बात की ताकीद करते है कि वो सचमुच जमीन से जुड़े हुए नेता हैं। नेताजी का भाषण, मोहल्ले, शहर, प्रदेश और देश/विदेश की समस्याओं से शुरू होता था, (फिर भांग के पकोड़ों की वजह से ) नॉन वेज चुटकुलों में जाकर भी नहीं थमता था। नेताजी हमारे होली दिवस के सबसे सॉलिड आइटम थे। भंग के पकोड़ो और ठंडाई के बात उनका खुद पर कंट्रोल खतम हो जाता था, जहां इनका कंट्रोल खतम हुआ, वानर सेना ने कमान संभाल ली, फिर नेताजी को कैसे और किस रूप में नाचना है, ये वानर सेना डिसाइड करती थी। नेताजी मधुबाला से शुरू होते थे और हेलेन के कैबरे पर जाकर रुकते थे, अब मोहल्ले वालों  विशेषकर भैयाजी का  बस चलता तो वो उनको सनी लियोने बना देते, लेकिन सड़क का मामला था और फिर भैयाजी भी अभी पिछले पैराग्राफ में पिटा  था, इसलिए उनके इरादों पर पानी फेरा गया। नेताजी को किसी और दिन भैयाजी के हवाले करेंगे।

होली का हुड़दंग शाम तक चलता था, अलबत्ता 12 बजे के बाद हम लोग मोहल्ले के हर घर में होली खेलने जाते थे। ये वाला प्रोग्राम हमारा सबसे सफल प्रोग्राम हुआ करता था, लोग पूरा साल इंतज़ार करते, दूर दूर से ही अपने माशूक़ को देखते रहते, लेकिन घरों में होली खेलने वाले प्रोग्राम में शामिल हो जाते, क्यों? अरे भाई माशूक़ के घर एंट्री मिल गयी थी, वो भी बिना नाम बदनाम हुए। अक्सर उस घर में ज्यादा लोग जाते जहां पर जवान कन्याएँ रहती थी, अब जितने  अंदर जाते, बाहर उतने नहीं निकलते थे, अक्सर गिनती में कमी हो जाती थी। अब जैसे जैसे बंदे कम होते जाते, हम लोग भी होली खेलते खेलते अपने अपने घरों को निकल जाते। वो भी क्या दिन थे? पूरा मोहल्ला एक परिवार की तरह होता था, आपस में गिले शिकवे भी होते थे, लेकिन आपस में प्यार बहुत था। अपने घर का लोग खयाल भले न रखे, पड़ोसी के घर का जरूर रखते थे। यही सब लोगों को जोड़े रखता था। अब कहाँ वो खयाल,  वो किस्से कहानिया, वो होली की मस्तियाँ  , वो त्योहार, वो अपनापन , सब कुछ जैसे यादों में ही सिमट कर रह गया है। खैर होली तो होली ही है, चलो इसी दिन आप लोग सब कुछ भूलकर पड़ोसी के साथ होली मना लें। ध्यान रहे, पड़ोसी से ही मनाएँ, पड़ोसिन से पंगे न लें। आप सभी को होली की बहुत बहुत शुभकामनाएँ।  इसी के साथ मुझे इजाजत दीजिये, नहीं तो कंपनी मेरे को भैया जी बना देगी। आते रहिए पढ़ते रहे आपका पसंदीदा ब्लॉग।

दो मोबाइल का चक्कर….

आप सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार।
आप सभी लोगों से बहुत दिनों बाद मुखातिब हुआ हूँ, क्या करूँ, रोजी रोटी से टाइम मिले तो ही कुछ लिखा जाए। खैर ये सब गिले शिकवे तो चलते ही रहेंगे। चलिये कुछ बात की जाए हमारे आपके बारे में। मै अक्सर दो अपने साथ रखता हूँ, एक मेरा सैमसंग गलक्सी एस2 और दूसरा मेरा प्यारा नोकिया ई71। मेरे से अक्सर लोग पूछते है कि ये दो दो मोबाइल का चक्कर क्या है। मै बस मुस्करा कर रह जाता हूँ। लेकिन पिछले दिनों मिर्जा पीछे ही पड़ गया, बोला तुमको आज बताना ही पड़ेगा कि दो दो मोबाइल, वो भी एक नयी तकनीक वाला और दूसरा पुराना, चक्कर क्या है। तो आप लोग भी मिर्जा के साथ साथ सुनिए।

हे मिर्जा, पुराने जमाने में हमारे मोहल्ले में वर्मा जी रहते थे, (यहाँ वर्मा जी का नाम सिर्फ रिफ्रेन्स के लिए लिया गया है, बाकी के शर्मा,शुक्ल,मिश्रा, वगैरह ना फैले और किसी भी प्रकार की पसढ़ न मचाएँ।) तो बात वर्मा जी की हो रही थी उनके चार बेटे थे। जब भी कोई उनके घर जाता तो शान से अपने सारे बेटों के बारे में बताते थे। एक दिन हम उनके घर गए तो उन्होने हमे अपने बेटो से मिलवाया।

ये मेरा सबसे छोटा बेटा है, डॉक्टर है।
ये मेरा तीसरे नंबर का बेटा है, इंजीनयर है।
ये मेरा दूसरे नंबर वाला बेटा है, वकील है।
और ये मेरा सबसे बड़ा बेटा है, ज्यादा पढ़ लिख नहीं पाया, इसलिए नाई की दुकान चलता है।
हम बमक गए, बोले वर्मा जी, आपने अपने सारे बच्चों को इतना अच्छा पढ़ाया लिखाया और कैरियर मे सेट किया, लेकिन आपका बड़ा बेटा टाट में पैबंद की तरह दिख रहा है, इसको आप अपने दूसरे बेटों के साथ परिचय में शामिल नहीं किया करो। अच्छा नहीं लगता। वर्मा जी धीरे से बोले, “मियां धीरे बोलो, मेरा बड़ा बेटा ही तो घर का खर्च चला रहा है। उसी पर तो पूरे घर का दारोमदार है। उसका परिचय नहीं कराएंगे तो कैसे चलेगा।”

तो हे मिर्जा, उसी तरह मेरे पास भी दो मोबाइल है, एक नयी तकनीक वाला और दूसरा नोकिया वाला, लेकिन आवाज आज भी पुराने वाले मोबाइल से ही अच्छी आती है। नया वाला तो सिर्फ
एप्लिकेशन प्रयोग करने और मन बहलाने के लिए है। सुबह से दिन तक, नए वाले फोन की बैटरी चुक जाती है, नोकिया वाला फोन न हो, लोगों से बात करना मुहाल हो जाये। इसलिए ये नोकिया वाला फोन मेरे घर का नाई वाला बेटा है, उसके बिना सब कुछ सूना सूना सा है। उम्मीद है आप लोगों को भी मिर्जा के साथ साथ मेरे दो दो मोबाइल रखने का मकसद समझ में आ गया होगा। तो फिर इसी के साथ विदा लेते है, मिलते है, अगले कुछ दिनों में।

अपडेट : छोटी बेटी के स्कूल की छुट्टियाँ थी, इसलिए बेगम साहिबा अपने मायके भारत तशरीफ ले गयी है, हम अपनी तशरीफ यहीं पर रखे हुए हैं, क्योंकि कंपनी का कहना है, अभी आप तशरीफ का टोकरा नहीं हटा सकते, सिस्टम हिल जाएगा। इसलिए यहीं बने रहें। अब बेगम साहिबा के बिना जीवन कितना सुखमय/दुखमय चल रहा है, इस बारे में जल्द ही लिखा जाएगा।

ओ हुसना….

अभी पिछले दिनों, मैं इन्टरनेट पर एम् टीवी कोक स्टूडियो देख/सुन रहा था. एम् टीवी कोक स्टूडियो ढेर सारे अच्छे कलाकारों के साथ रिकॉर्डिंग करता है. यदि आपको विभिन्न भाषाओँ में ढेर सारे अच्छे कलाकारों को सुनना है तो कोक स्टूडियो सही स्थान है. मेरे को कोक स्टूडियो और एम् टीवी अन-प्लुगगड अच्छा लगता है, क्योंकि इसमें कलाकार अपने पूरे मूड में होते है और वाद्य यंत्रो का शोर भी कम होता है, फिर ऊपर से फ्युजन का अच्छा प्रयोग भी देखने को मिलता है. मुझे कोक स्टूडियो में एक गीत बहुत पसंद आया, आप सभी से शेयर करना चाहूँगा. इसको आप सुकून से सुनियेगा, आपको अच्छा लगेगा. इसको लिखा और गाया है, हमारे पसंदीदा पियूष मिश्रा ने, वही गैंग ऑफ वासेपुर वाले(पूरी फिल्म में आप इनकी आवाज को सुन सकते है), इन्होने फिल्म में एक महत्वपूर्ण रोल भी निभाया था.

हसना एक ऐसा गीत है जो आपके सामने भारत और पाकिस्तान के विभाजन की यादों को दोबारा ताज़ा कर देगा. विभाजन के पहले हसना और जावेद दोनों एक हो मोहल्ले में रहते थे और एक दुसरे से बेहद प्यार करते थे. विभाजन के बाद, हसना पाकिस्तान में रह गयी और जावेद लखनऊ में आकर बस गए. काफी सालों बाद जावेद ने हसना को एक खत लिखा, पेश है जावेद का खत हसना के नाम :

लाहौर के उस
पहले जिले के
दो परगना में पहुंचे
रेशम गली के
दूजे कूचे के
चौथे मकां में पहुंचे
और कहते हैं जिसको
दूजा मुल्क उस
पाकिस्तां में पहुंचे
लिखता हूँ ख़त में
हिन्दोस्तां से
पहलू-ए हुसना पहुंचे
ओ हुसना

मैं तो हूँ बैठा
ओ हुसना मेरी
यादों पुरानी में खोया
पल-पल को गिनता
पल-पल को चुनता
बीती कहानी में खोया
पत्ते जब झड़ते
हिन्दोस्तां में
यादें तुम्हारी ये बोलें
होता उजाला हिन्दोस्तां में
बातें तुम्हारी ये बोलें
ओ हुसना मेरी
ये तो बता दो
होता है, ऐसा क्या
उस गुलिस्तां में
रहती हो नन्हीं कबूतर सी
गुमसुम जहाँ
ओ हुसना

पत्ते क्या झड़ते हैं
पाकिस्तां में वैसे ही
जैसे झड़ते यहाँ
ओ हुसना
होता उजाला क्या
वैसा ही है
जैसा होता हिन्दोस्तां यहाँ
ओ हुसना

वो हीरों के रांझे के नगमें
मुझको अब तक, आ आके सताएं
वो बुल्ले शाह की तकरीरों के
झीने झीने साये
वो ईद की ईदी
लम्बी नमाजें
सेंवैय्यों की झालर
वो दिवाली के दीये संग में
बैसाखी के बादल
होली की वो लकड़ी जिनमें
संग-संग आंच लगाई
लोहड़ी का वो धुआं जिसमें
धड़कन है सुलगाई
ओ हुसना मेरी
ये तो बता दो
लोहड़ी का धुंआ क्या
अब भी निकलता है
जैसा निकलता था
उस दौर में हाँ वहाँ
ओ हुसना

क्यों एक गुलसितां ये
बर्बाद हो रहा है
एक रंग स्याह काला
इजाद हो रहा है

ये हीरों के, रांझों के नगमे
क्या अब भी, सुने जाते है हाँ वहाँ
ओ हुसना
रोता है रातों में
पाकिस्तां क्या वैसे ही
जैसे हिन्दोस्तां
ओ हुसना

Movie/Album: कोक स्टूडियो एम.टीवी (2012)
Music By: पियूष मिश्रा, हितेश सोनिक
Lyrics By: पियूष मिश्रा
Performed By: पियूष मिश्रा

और ये रहा विडियो का लिंक ( )

कौन सा स्मार्टफोन अथवा टैबलेट खरीदें?

आप सभी के पास स्मार्टफोन तो जरूर होगा. जिनके पास नहीं होगा तो वे अवश्य ही खरीदने की सोच रहे होंगे. अक्सर देखा जाता है कि हम लोग कोई बड़ी चीज़ खरीदने से पहले कोई विशेष रिसर्च नहीं करते, या तो हम किसी पडोसी की सलाह पर लेते है, या फिर अपने ऑफिस के किसी सहयोगी की सलाह पर या फिर अखबार, पत्रिका अथवा टीवी के विज्ञापन के प्रभाव में आकर अपनी खरीदारी कर बैठते है. अब चूंकि स्मार्टफोन अथवा टैबलेट आपके सबसे करीबी, जी हाँ सबसे करीबी सहयोगी होंगे, इसलिए उनका चुनाव बड़े ध्यान से करे.

सबसे पहले तो आप अपनी जरूरत को समझे, स्मार्टफोन अथवा टैबलेट खरीदते समय कुछ बातो का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

मोबाइल सिस्टम :
जैसे हमारा कंप्यूटर माइक्रोसोफ्ट विंडोज पर आधारित है, उसी प्रकार स्मार्टफोन भी विभिन्न प्रकार के ओपेरटिंग सिस्टम पर चलते है. इनमे सबसे लोकप्रिय एप्पल का iOS और गूगल का एंड्रोइड है. हालांकि अब माइक्रोसोफ्ट भी अपने विंडोज 8 साथ बाजार में है. अब इसमें कौन सा अच्छा है और कौन बुरा, इस पर लिखने बैठूंगा तो एक लेख नाकाफी होगा. मेरी अपनी पसंद एंड्रोइड है.

मेमोरी :
स्मार्टफोन खरीदते समय सबसे मेमोरी का विशेष ध्यान रखे, कम से कम 512MB (ज्यादा जितना हो अच्छा) होनी ही चाहिए. यदि आप ढेर सारे मोबाइल प्रोग्राम (Applicaitons) चलने के इच्छुक है तो कम से कम 1GB अवश्य ले, अन्यथा बाद में आपको पछताना पड़ सकता है.

प्रोसेसर :
जितनी जरूरी मेमोरी है, उतना ही महत्वपूर्ण स्मार्टफोन का प्रोसेसर होता है. कम से कम आप 1GHz का प्रोसेसर जरूर लें. आजकल तो मल्टी कोर प्रोसेसर (जैसे Dual/Quad Core वाले प्रोसेसर) का जमाना है, लेकिन फिर भी आप कम से कम सिंगल कोर 1GHz का प्रोसेसर का चयन करें. जितना अच्छा आपका प्रोसेसर होगा, आपका स्मार्टफोन उतनी ही सहजता से चलेगा. यदि आपके चयनित स्मार्टफोन के प्रोसेसर में ग्राफिक्स का विशेष सपोर्ट हो तो सोने पर सुहागा.

एंड्रोइड संस्करण :

आप यह जरूर ध्यान रखे कि आपका चयनित स्मार्टफोन एंड्रोइड के लेटेस्ट संस्करण (अभी Jellybean 4.2.1 version) पर आधारित हो. हो सकता है कि आपको पुराने संस्करण वाले फोन थोड़े सस्ते मिल जाए, लेकिन आप उस चक्कर में मत पड़ना, मोबाइल में लेटेस्ट ही लेना चाहिए.

SmartPhone and Tablet

स्क्रीन साइज़ :
अब बात आती है, स्क्रीन के साइज़ की. वैसे तो बाज़ार में विभिन्न प्रकार की स्क्रीन साइज़ के फोन उपलब्ध है, लेकिन मेरी राय में फोन कम से कम 4 इंच का होना ही चाहिए. टैबलेट की साइज़ कम से कम 7 इंच होनी ही चाहिए. बाकी आप अपनी पसंद से स्क्रीन साइज़ का चुनाव करें.

कैमरा :
स्मार्टफोन में कम से कम 5 MegaPixel का कैमरा होना ही चाहिए, ज्यादा जितना हो, उतना बेहतर. ध्यान रखियेगा स्मार्टफोन में दोनों तरफ कैमरा होना जरूरी है, एक तरफ कैमरे वाले स्मार्टफोन का चुनाव न करें.

गारंटी और स्थानीय सपोर्ट :
यह जरूर देख लें कि आपके शहर में उस फोन का सर्विस सेंटर अवश्य हो. कभी जरूरत पड़े तो दिक्कत ना आये. वैसे तो सभी बड़ी कम्पनिओं के सर्विस सेंटर हर छोटे बड़े शहरों में उपलब्ध है.

ब्रांड :
यह भी एक महत्पूर्ण निर्णय है, ब्रांड अच्छा होना चाहिए. मार्केट में एक तरफ सैमसंग, एलजी, एचटीसी जैसे बड़े ब्रांड तो दूसरी तरफ माइक्रोमैक्स, कार्बन, स्पाइस और लावा जैसे स्थानीय ब्रांड उपलब्ध है. कुछ अच्छी चीनी ब्रांड जैसे हुवावे भी उपलब्ध है, आप अपनी पसंद और बजट के हिसाब से ब्रांड का चुनाव करें. लेकिन मोबाइल के फीचर्स से समझौता न करें.

इन्टरनेट पर समीक्षा :
आप अपने पसंदीदा फोन अथवा टैबलेट कि इन्टरनेट पर समीक्षा जरूर पढ़े, कम से कम उस उत्पाद की खूबियों और कमजोरियों के बारे में आपको जानकारी होनी ही चाहिए. हो सके तो यूटूब पर उसका विडियो भी देखे. कम से कम दो समीक्षाएँ जरूर देखें, ताकि आप निष्पक्ष राय कायम कर सकें.

कहाँ से लें? :
ये एक अच्छा सवाल है, आप कंपनी के शोरूम, स्थानीय विक्रेता, ऑनलाइन शौपिंग पोर्टल अथवा अपने मोबाइल ओपेरटर (स्कीम के साथ) का चुनाव कर सकते है. जहाँ से आपको अच्छी डील मिले, उसी का चुनाव करिये. मेरी पसंद ऑनलाइन शौपिंग पोर्टल और स्थानीय मोबाइल ओपेरटर है. कभी कभी मोबाइल कम्पनिया आपको डाटा प्लान के साथ अच्छी डील देती है, उस पर नज़र रखिये.

आगे क्या? :
यदि आपने अपना पसंदीदा स्मार्टफोन ले लिया है तो अपनी पसंद के अप्प्लीकेशन डाउनलोड करें. स्मार्टफोन केअप्प्लीकेशन के बारे में एक पोस्ट अलग से लिखी जायेगी. अप्प्लीकेशन से सम्बंधित सहायता के लिए आप मुझे ट्विट्टर पर फोलो कर सकते है, मेरी ट्विट्टर आईडी है @jitu9968

वैसे तो मैंने पूरी कोशिश की है कि आपके दिमाग में उठ रहे सारे सवालों के जवाब दूं, लेकिन यदि आपके मन में कोई सवाल रह गया है तो आप बेहिचक टिप्पणी में लिख सकते है. मै जवाब देने कि पूरी कोशिश करूँगा.

यदि आप ये ना होते तो क्या होते?

चलिये आज कुछ बात करते है, आपके अपने प्रॉफ़ेशन की। यदि आप अपने इस कैरियर में न होते तो क्या होते? वैसे तो मैंने पहले भी इस बारे में बात लिखी है, पिछली बाते ताज़ा करने के लिए ये वाला लेख देखिये। तो जनाब शुरू करते है। यदि मैं अपने इस कम्प्युटर सॉफ्टवेर वाले पेशे में न होता तो कहाँ होता?

चार्टर्ड अकाउंटेंट  : जी हाँ, घर वालों ने मेरे बारे में यही सोचा था। मेरी पढ़ाई भी उसी दिशा में चल रही थी, ये तो मार पड़े कम्प्युटर के कीड़े को, जो काट गया और ऐसा काट गया कि, अच्छा खासे उदीयमान चार्टर्ड अकाउंट की वाट लग गयी और हम कूद पड़े कम्प्युटर सॉफ्टवेर के पेशे में। अब ये सब हुआ कैसे? हमने कॉमर्स  की पढ़ाई शुरू करी, बात उस समय की है, जब हम इंटरमीडिएट (12वी कक्षा) मे हुआ करते थे, हम शुरू से ही अलमस्त टाइप के थे, दिन कहाँ गुजरा पता नहीं, अलबत्ता रात को पढ़ाई जरूर करते थे। हमारे कुछ मित्रों के बड़े भाई IIT कानपुर में पढ़ते थे, हम अक्सर साइकल उठाकर उनसे मिलने IIT कानपुर चले जाया करते, उनकी लैब में जकर टाँक झांक करते, उनकी लाइब्ररी मे बैठ जाते, लोग समझते थे, कि हम लाइब्ररी मे पढ़ने जाते थे, ये गलत था, ऐसा ओछा इल्ज़ाम आप हम पर नहीं लगा सकते।इधर आईआईटी वालों ने अपनी 25वी सालगिरह पर अपनी सारी प्रयोगशालाएँ पब्लिक के लिए खोल दी थी। हम तो वहाँ के रेगुलर आउट-साइडर थे ही, हम भी हर गतिविधि जैसे क्विज़ वगैरह में भाग लिए, और भगवान जाने किसकी गलती से हम एक दो क्विज़ में प्रथम स्थान पर आ गए, एक प्रोफेसर ने ताड़ लिया, बोले आओ बैठो, समझते हैं। उन्होने हमसे पूछा क्या पढ़ते हो, हम बोले कॉमर्स, प्रोफेसूर ने बोला, तुम्हारा लॉजिकल रीज़निंग अच्छा है, तुम कम्प्युटर मे शिफ्ट काहे नहीं हो जाते। अब इनको कौन समझाता कि , ये डिसिजन हमारे हाथ में नहीं था, प्रोफेसर साहब ने हमे रोजाना कम्प्युटर पर काम करने के लिए बुलाया, जिसके लिए हम तुरंत तैयार हो गए। अब शाम हम उनके साथ ही बिताते थे। खैर अब कम्प्युटर का कीड़ा तो हमको काट ही चुका था, अब कॉमर्स में किसको इंटरेस्ट होता?

गायक : मेरे को गायकी का कीड़ा बहुत पहले ही काट चुका था, माशा-अल्ला उस समय आवाज़ भी काफी अच्छी थी, शहर में एक बार रोटरी क्लब वालों ने एक प्रतियोगिता आयोजित कारवाई थी,  बड़े जतन और लगन से उसमे भाग लिया था।  उस समय संगीत और सुरों का कोई विधिवत ज्ञान न होते हुए भी, मेरे को एक (सांत्वना) पुरस्कार मिला था। फिर प्यार-श्यार के चक्कर में बंदा गायक बन ही जाता है, नहीं नहीं, में अता-तुल्लाखान तो नहीं बना, लेकिन दर्द भरे नगमे गाने में मेरी महारत थी। कई बार सोचा कि संगीत की विधिवत शिक्षा लूँ, लेकिन रोजी रोटी के चक्कर में सब धरा का धरा रह गया।  लेकिन समय रहते रहते गायकी का भूत भी उतार गया, या कहो घर वालों ने उतार दिया। इस तरह से एक अच्छे खासे उभरते गायक की प्रतिभा को दबा दिया गया। अभी भी कभी कभी गुनगुना लेता हूँ, आप लोगों कि हिम्मत हो तो आप (अपने रिस्क पर) मुझे मेरे संगीत  ब्लोग्स में  सुन सकते है।

मास्टर शेफ : जी हाँ, आपने सही सुना। मेरे को खाने का बड़ा शौंक है, स्वाद के बारे में काफी कुछ बता सकता हूँ।  आज भी श्रीमति जी, मेरे स्वाद कि समझ को दाद देती है। मेरा पूरा पक्का विश्वास है, मैं भारतीय ही नहीं, दुनिया भर से व्यंजन बहुत आसानी से पका सकता हूँ। अब चूंकि मेरा किचन में जाना बीबी जी ने बैन कर रखा है, इसलिए मेरी इस प्रतिभा को भी उभरने नहीं दिया गया। अब घर में दो मास्टर शेफ तो हो नहीं सकते, इसलिए शादी बचाने के लिए इस शौंक का त्याग करना पड़ा। अब  कूक तो बना नहीं, लेकिन अभी भी  मास्टर शेफ वाले पूरे गुण है।

 चित्र सौजन्य से 

ट्रैवल ब्लॉगर : मेरे को घूमने का बहुत शौंक है। भारत के लगभग हर हिस्से को कई कई बार देखा है। इतनी यात्राएं की है, मेरी हसरत थी कि, मै एक दो डॉक्युमेंट्री फिल्म बनाऊँ, लेकिन क्या करें, कोई विडियो शूट करने वाला पार्टनर नहीं मिला, चाहे कुछ भी हो, कभी न कभी मै एक विडियो डॉक्युमेंट्री जरूर बनाऊँगा। देखते है ये हसरत कब पूरी होती है।

उपन्यासकार :  बचपन में जासूसी नॉवेल बहुत पढे थे, राजन-इकबाल, राम-रहीम से बढ़ते हुए, विक्रांत, विजय-विकास और केशव पंडित तक को पढ़ा। मेरे पसंदीदा उपन्यासकार वेद प्रकाश शर्मा थे, एक बार उनसे मेरठ जाकर मुलाकात भी कर आया था। बचपन में काफी आधी अधूरी कहानिया लिखी थी, जिनमे मौलिक कम कॉपी ज्यादा थी। लिखने का शौंक तो था, लेकिन उपन्यास लिखने का साहस कभी नहीं जुटा सका। इसलिए समय रहते ये शौंक भी जाता रहा।

शतरंज के खिलाड़ी :  मेरा एक और शौंक था, शतरंज खेलना। बचपन में, मैंने स्कूल/कॉलेज और युनिवेर्सिटी स्तर पर खेला था, लेकिन उसके बाद कभी भी इसको पेशे के तौर पर नहीं अपना पाया। समय  रहते बाकी के सारे शौंक तो खतम हो गए, लेकिन ये शौंक अभी भी बरकरार है। आज भी आप मुझे विभिन्न ऑनलाइन चेस साइट पर खेलते हुए पाएंगे। फिर माशा अल्ला मेरी रेटिंग भी काफी अच्छी है। तो फिर आइए कभी खेलते है ऑनलाइन।

धर्मगुरु : आप कहेंगे का भी कोई प्रॉफ़ेशन होता है, हाँ जी होता है, ये पेशा ही सबसे अच्छा पेशा है। भले ही हमारे 36 करोड़ देवी देवता है, उसके बाद भी हमारे यहाँ लाखो धर्म गुरुओं का बिज़नस बे रोक टोक, शान से चल रहा है। बस आपको लोगों को प्रभावित करने आना चाहिए, गूढ गूढ बाते करिए, बाकी चेले चपाटी, संभाल लेंगे। बाकी गुण तो मेरे में है, लेकिन कभी भी इस बारे में गंभीरता से नहीं सोचा, सोचता हूँ अब बुढ़ापे में इस बारे में भी सोचा जाये, हो सकता है काम बन जाये। आप क्या कहते हो?

चलिये मैंने तो अपनी बता दी, आप भी कुछ अपने बारे में लिख डालिए। मेरे बचपन के और ढेर सारे खुराफाती शौंक के बारे में जानने लिए यहाँ देखें। तो फिर आते रहिए और पढ़ते रहिए|